News

Justin Bieber Paralysis: आंखे भी नहीं खोल पा रहे है जस्टिन बीबर ! इस खतरनाक बीमारी का हुए शिकार, आप भी ना करे अनदेखा

Introduction:-

Justin Bieber Paralysis: आंखे भी नहीं खोल पा रहे है जस्टिन बीबर ! इस खतरनाक बीमारी का हुए शिकार, आप भी ना करे अनदेखा? दोस्तों आपको बता दे की Justin Bieber जो की एक बहुत ही बड़े और जाने माने और सबके दिलों पर राज करने वाले Canadian singer है जिनके बारे मे इस समय सबसे बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है. Justin Bieber ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट करते हुए बताया की उनके चहरे का आधा हिस्सा Paralysis हो गया जिसके कारण उन्हे चहरे का एक हिस्सा बिल्कुल भी काम नहीं कर रहा है. अब ऐसा क्या हुआ Justin Bieber को और कॉनसी बीमारी से हुआ उन्हे Paralysis आइए बताते है आपको आगे इस पोस्ट मे.

Justin Bieber Paralysis: कैसे हुए जस्टिन बीबर इस खतरनाक बीमारी के शिकार

दोस्तों आपको बता दे की इस समय की जो सबसे बड़ी खबर सामने निकल कर आ रही है उससे सिर्फ सभी Canadian को ही नहीं भलिकी पूरी दुनीया को बड़ा झटका लगा है, जी हाँ दोस्तों हम बात कर रहे है एक बहुत बड़े canadian singer की जो की इस से बहुत ही गंभीर बीमारी की शिकार हो गए है जिसका नाम है Ramsay Hunt Syndrome ( रामसे हन्ट सिन्ड्रोम ) यह बीमारी वायरस की वजह से होती है. इसके क्या लक्षण है और रामसे हन्ट सिन्ड्रोम क्या है और किन लोगो को इसका खतरा है यह सब जनेगे आगे इस पोस्ट मे.

आपको बता दे की हॉलिवुड के जाने माने सिंगर जस्टिन बीबर जोकी उन्होंने ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट अपलोड करते हुए बताया की उनके चहरे का एक हिस्सा पूरे तरह से ठप पड़ गया है वह बताते है की उनकी एक आँख भी नहीं खुल पा रही है और एक नाक का भी पता नहीं चल रहा है यहाँ तक की मे ठीक से स्माइल भी नहीं कर पा रहा हूँ.

Justin Bieber Paralysis

जस्टिन बीबर ने विडिओ मे क्या बताया

Justin Bieber जोकी एक बहुत ही गंभीर बीमारी रामसे हन्ट सिन्ड्रोम के शिकार हो गए है. उन्होंने एक विडिओ को शेयर करते हुए कहा की मेरे चहरे का एक हिस्सा काम नहीं कर रहा है ऐसा मुझसे एक वायरस की वजह से हुआ है और यह वायरस मेरे कान और मेरे चहरे की नसों पर अटेक्क कर रहा है. जिसके चलते मेरे चहरे का एक हिस्सा परैलिसिस हो गया है. आइए अब आपको बताते है की यह बीमारी कैसे और क्या इसके लक्षण होते है.

क्या है रामसे हन्ट सिन्ड्रोम ( Ramsay Hunt Syndrome )

यदि दोस्तों आसान भाषा मे आपको बताए तो जब आपके गरदन या ऐसी जगह जहाँ पर आपके कान की और चारे की नस होती है वहाँ पर दाद या चकत्ते ही जाते है तो वह कान और चहरे की नसों पर असर डालते है. यह स्थिति हर्पीज जोस्टर ओटिकस (herpes zoster oticus) नाम के वायरस के कारण होती है. सामान्य वैरीसेला-जोस्टर वायरस चिकन पॉक्स का भी कारण बनता है,जो बच्चों में सबसे कॉमन होता है. यदि किसी को कभी भी चिकन पॉक्स हुआ है तो वह वायरस कभी भी एक्टिव हो सकता है और दाद का कारण बन सकता है.

दाद व चिकन पॉक्स शरीर के जिस भी हिस्से पर असर डालता है उस हिस्से पर परैलिसिस या लकवा मरने का खतरा बना रहता है. याही जस्टिन बीबर के साथ भी है?

यह भी पढे— PUBG के लिए करदी अपनी ही माँ की गोली मारकर हत्या, जानिए क्या है पूरा मामला ?

रामसे हन्ट सिन्ड्रोम के लक्षण ( Ramsay Hunt Syndrome )

इस बीमारी के सबसे ज्यादा दिखाई देने वाले लक्षण कानों के पास दाद, चकत्ते या फिर चेहरे के आसपास पैरालिसिस है. इस सिंड्रोम के कारण जब चेहरा लकवाग्रस्त हो जाता है तो चेहरे के मसल्स पर कंट्रोल रखना काफी मुश्किल हो जाता है.

ऐसा लगता है कि आपका आधा चेहरा बेजान हो चुका है. जैसा की जस्टिन बीबर के साथ हुआ है

कुछ मामलों में रामसे हंट सिंड्रोम में लाल, मवाद से भरे फफोले भी देखे जा सकते हैं ये दाने या फफोले कान के अंदर, बाहर या आसपास हो सकते हैं. कुछ मामलों में दाने आपके मुंह में भी दिखाई दे सकते हैं,

खासकर ऊपर की ओर या गले में. रामसे हंट सिंड्रोम के ये भी सामान्य लक्षणों हैं:

1-  कान में दर्द होना

2- गर्दन में दर्द होना

3- कान में आवाज आना जैसे घूँ-घूँ

4- बहरापन ( कम सुनाई देना)

5- चेहरे के प्रभावित हिस्से वाली आंख बंद न होना या फिर इसका उल्टा

6- स्वाद में कमी

7- चक्कर आना

इस बीमारी के कारण किये जस्टिन बीबर ने कई शो कैन्सल

आपको बता दे की इस खतरनाक बीमारी के होने के बाद जस्टिन बीबर ने अपने सभी आगे करने वाले शो को कैन्सल कर दिया और उनका इलाज अभी जारी है हम दुआ करते है की वह जल्द से जल्द ठीक हो करके फिर से उसी तरह से अपनी सिंगइंग से सबका दिल जीते. अभी के लिए बस इतना ही मिलते है एक और नई अपडेट के साथ तब तक सुरक्षित रहिए सावधान रहिए “जय हिन्द जय भारत”

हमे फॉलो करे.

Facebook, Instagram, Twitter, पर।

Thankyou.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button